उत्तराखंड मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना 2020।ऑनलाइन और ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर्म


उत्तराखंड के निवासी और लौट कर आए प्रवासी मजदूरों को आत्मनि्रभर बनाने के लिए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह  रावत जी ने एक नई योजना को लागू किया है। इस योजन का नाम है मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना। इस योजना के अंतर्गरत प्रदेश के निवासियों को अपना काम काज शुरू करने के लिए ना केवल सरकार की तरफ से आर्थिक सहायता प्रधान की जाएगी बल्कि लोगों को कारोबार से जुड़े टिप्स भी दिए जाएंगे। योजना के माध्यम से लाभार्थी निर्माण क्षेत्र में 25 लाख रूपए और सेवा क्षेत्र में 10 लाख रूपए तक का लोन कम ब्याज दर पर दिया जाएगा। वंही कारोबार की लागत का कुछ प्रतिशत आवेदक को खुद ही एकत्र करना होगा।

Uttarakahnd Mukhyamantri Swarojgar Yojana में ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है लेकिन योजना से जुड़ी कुछ र्शते हैं जो पूरी करना अनिवार्य हैं। अगर आप भी अपना करोबार करना चाहते हैं और इस योजना में आवेदन करना चाहते हैं, या फिर इस योजना से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं। तो हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ें।

क्या है उत्तराखंड मुख्यमंत्री प्रवासी स्वरोजगार योजना

कोरोना वायरस में हुए लॉकडाउन के चलते उत्तराखंड के बहुत से निवासी जो पलायन करके जा चुके थे,उन्हे  अपने राज्यों में लौटना पड़ा है। ऐसे ही लाखों मजदूर उत्तराखंड में भी पंहुचे हैं। यंहा से अब लोग काम काज की तलाश में पलायन ना करें इसके लिए ही मुख्यमंत्री प्रवासी स्वरोजगार योजना की शुरआत की गई है। योजना का लाभ प्रेदश में लौट कर आए प्रवासी मजदूर, उद्यमशील युवाओं, शिक्षित शहरियों के अलावा कुशल एंव अकुशल दस्तकारों, हस्तशिल्पियों को और उत्तराखंड के आम निवासियों को भी मिलेगा। योजना के अंतर्गत सभी सरकारी बैंकों, अनुसूचित वाणिज्यक बैंको, और सहकारी बैंकों के माध्यम से लाभार्थियों को ऋण उपलब्ध कराए जाएंगे।

Mukhyamantri Swarojgar Yojana के लिए बनाई गई हैं चार श्रेणिया

योजना को राज्य के लगभग सही जिलों में लागू किया जा चुका है। इन जिलों के MSME वर्गीकृत निती के अनुसार चार अलग अलग श्रेणियों में बांटा गया है। इन श्रेणियों की योजना में एक अहम भूमिका होगी। ए श्रेणी के आवेदको को व्यवसाय की कुल लागत का 25 प्रतिशत मार्जिन मनी जमा करना होगा। जबकि बी श्रेणी को 20 प्रतिशत एंव सी व डी श्रेणी को 15 प्रतिशत मनी मार्जिन के रूप में जमा कराना होगा (जब आप बैंक से कर्ज लेने के लिए आवेदन करते हैं तो उसका कुछ प्रतिशत पहले आपको बैंक में जमा करना होता इसे ही मार्जिन मनी कहा जाता है)। इन जिलों को अलग अलग श्रेणियों में रखा गाय है।

 श्रेणी– इस श्रेणी में पिथौरारगढ़, उत्तरकाशी, चमोली, चंपावत, रद्रप्रयाग और बागेश्वर जिले को शामिल किया गया है।

बी श्रेणी– में अलमोड़ा का संपूर्ण क्षेत्र, पौड़ी, टिहरी, के पर्वतीय, बाहुल, विकास खंड, नैनीताल, गढ़वाल के फकोट विकास खंड आदि जिलों को शामिल किया गया है। 

सी श्रेणी में देहरादून के रायपुर, सहसपुर, विकास नगर, डोईवाला विकास खंड, रामनगर और हल्द्वानी को शामिल किया गया है। 

डी श्रेणी में हरिद्वार, उद्यमसिंह का संपूर्ण क्षेत्र, देहरादून, और नैनीताल के बचे हुए इलाकों को भीइ इस योजना में शामिल किया गया है।

 मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना का उद्देश्य

  • योजना के माध्यम से राज्य में स्वरोजगारो को बढ़ावा देना
  • राज्य से काम काज के चलते होने वाले पलायन को रोकना। 
  • राज्य के लोगों की आर्थिक स्थिति को सुधारना
  • जरूरतमंद एंव काबिल लोगों को काम काज शुरू करने के लिए आर्थिक सहायता मुहैया कराना।
  • राज्य को पूरी तरह आत्मनिर्भर बनाना

Benefits of Uttarakhand Mukhyamantri Swarojgar Yojana

  • इस योजना का लाभ उत्तराखंड में लौट कर आए प्रवासी मजदूरों और उत्तराखंड के सभी लोगों को दिया जाएगा जो अपना कारोबार करना चाहते हैं।
  • राज्य के लोग खुद का व्यापार कर सकें इसके लिए बैंकों से कर्ज दिलाया जाएगा।
  • योजना के तहत विर्निमाण के क्षेत्र की परियोजना के लिए 25 लाख रूपए और सेवा क्षेत्र के लिए 10 लाख रूपए तक का लोन लिया जा सकेगा।
  • सरकार द्वारा लागू की गई इस योजना का लाभ सभी तक पंहुचे इसके लिए प्रचार प्रसार का काम भी शुरू कर दिया जाएगा।

योजना में पात्रता एंव शर्ते

  • योजना में आवेदक की उम्र कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए।
  • योजना का लाभ केवल उत्तराखंड के निवासियों को ही होगा।
  • आवेदक का शिक्षित होना कोई जरूरी नहीं होगा।
  • आवेदक या उसके परिवार को योजना का लाभ केवल एक ही बार प्राप्त होगा।
  • योजना के लिए लाभार्थियों का चुनाव प्रोजेक्ट वायबिलिटी को देखते हुए होगा। यानी अगर आवेदन अधिक मात्रा में प्राप्त होते हैं तो पहले आओ और पहले पाओं पर ही आवेदन स्वीकृत किए जाएंगे।
  • आवेदक ने बीते पांच सालों में केंद्र या राज्य सरकार द्वारा लागू की गई किसी भी स्वरोजगार योजना का लाभ ना  लिया हो। उसे ही इस योजना का लाभ प्राप्त होगा।
  • आवेदक अगर किसी अनुसुचित जाति जन जाति का है, तो उसे अपना जाति प्रमाण पत्र भी आवेदन के साथ ही दर्ज करना होगा।

Required Documents for मुख्यमंत्री स्वरोजगार प्रवासी मजदूर योजना

  • आधार कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाते की संपूर्ण जानकारी
  • निवासी प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र अगर है तो

Uttarakahand Mukhyamantri Swarojgar Yojana, Online and Offline Registration Form

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया

  1. सबसे पहले आपको आधिकारिक साइट पर जाना होगा जिसका लिंक आपके सामने है। https://msy.uk.gov.in/frontend/web/index.php
  2. लिंक पर क्लिक करन के बाद आप साइट के होम पेज पर होंगे।यंहा आपको पंजीकरण करने का विक्लप दिखाई देगा। इस विक्लप पर क्लिक करें।
  3. अब आपको अपना पंजीकरण करने कि लिए मांगी गई तमाम जानकारियां दर्ज करनी होंगी। इस तरह आपका अकाउंड क्रिएट हो जाएगा।
  4. अब अपना अकाउंट लॉगिन कर अपनी तमाम जानकारियां दर्ज करनी होंगी। इसमे आपको मोबाइल नंबर, पैन नबंर, इसके अलावा आप किस क्षेत्र के लिए आवेदन कर रहे हैं। यह जानकारी दर्ज करनी होंगी। 
  5. इस तरह आपका पंजीकरण पूरा हो जाएगा।

ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया

  • अगर आप योजना में आवेदन ऑफलाइन तरीके से करना चाहते हैं, तो सबसे पहले अपने नजदीकी बैंक जाएं और इस उत्तराखंड़ मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना का आवेदन फॉर्म मांगे।
  • अब फॉर्म को पूरी तरह भर लें और मांगे गए सभी दस्तावेज की कॉपी भी लगा लें।
  • इसके बाद आप फॉर्म को बैंक में जमा कर दें। इस तरह आपका पंजीकरण पूरा हो जाएगा।

स्वरोजगार योजना से संबंधित प्रशनोत्तर

[sc_fs_multi_faq headline-0=”h5″ question-0=”उत्तराखंड मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के जरिए कितना लोन दिया जाएगा” answer-0=”योजना में निर्माण क्षेत्र को 25 लाख और सेवा क्षेत्र के व्यापार के लिए 10 लाख रूपए दिया जाएगा” image-0=”” headline-1=”h5″ question-1=”मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में क्या अन्य देश के लोग भी आवेदन कर सकते हैं?” answer-1=”नहीं, यह योजना लगभग उत्तराखंड के लोगों के लिए ही है। ” image-1=”” headline-2=”h5″ question-2=”क्या अन्य स्वरोजगार योजना का लाभ ले चुका व्यक्ति इसमें आवेदन कर सकता है?” answer-2=”नहीं, इस तरह की योजना का लाभ लेने वाले किसी भी व्यक्ति को इस योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा।” image-2=”” headline-3=”h5″ question-3=”क्या कारोबार में सारा पैसा लोन के तौर पर लिया जा सकता है?” answer-3=”नहीं, योजना का कुछ प्रतिशत पैसा आवेदक को भी देना होगा।” image-3=”” count=”4″ html=”true” css_class=””]

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड की यह योजनाएं आपके बेहद काम आएंगी