ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग jaipur, rajasthan|ग्राम पंचायत rajasthan|

राष्ट्रपिता महात्मा गॉधी के ” ग्राम स्वराज्य ” की परिकल्पना के प्रति कटिबद्ध एवं प्रतिबद्ध राष्ट्र, स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात्‌ से ही पंचवर्षीय योजनाओं के माध्यम से चरणबद्ध रूप में कल्याणकारी योजनाओं का सृजन करता हुआ उन्हे मूर्त रूप देने का भरसक प्रयास कर रहा है। गॉवों में बसने वाले भारत के सर्वांगीण विकास की परिकल्पना तब तक साकार नहीं हो सकती जब तक कि गॉव एवं ग्रामीण विकास को सर्वोच्च प्राथमिकता नहीं दी जाती।

इस तथ्य को मद्देनजर रखते हुये राज्य सरकार ने केन्द्र के समन्वय से पंचवर्षीय योजनाओं के माध्यम से इस क्षैत्र पर विषेष ध्यान दिया है। आज राजस्थान देष के अन्य राज्यों की तुलना में तीव्र गति से नियोजित विकास करते हुये अग्रिम पंक्ति के राज्यों में अपना स्थान बनाने हेतु प्रयासरत है। स्वतंत्रता प्राप्ति के इन 60 वर्षों में राज्य ने विभिन्न चुनौतियों का सामना करते हुये विकास के अनेक सोपान चढते हुये कई कीर्तिमान स्थापित किये हैं। एक ओर जहां राज्य सरकार विकास की गति को तीव्र से तीव्रतम करने के लिये प्रयत्नषील है वहीं दूसरी ओर प्राकृतिक विपदाएं विकास में बाधक नहीं हो सके इस बाबत भी सजग एवं सचेत रही है।

राज्य का अधिंकाष भू-भाग रेगिस्तानी होने के कारण सूखे एवं अकाल की विभीषिका से जूझता रहा है। इसके साथ ही संसाधनों की कमी एवं बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण राज्य के ग्रामीण क्षेत्र में बेरोजगारी की समस्या भी सदैव बनी रही है। फलतः निर्धनता , बेरोजगारी और विषमता आदि समस्याओं से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सदैव आघात पहुंचता है। विभिन्न योजनाओं के माध्यम से राज्य सरकार ने गॉवों को न केवल विकास की मुख्य धारा से प्रत्यक्ष रूप से जोडा है, बल्कि ग्रामीण विकास हेतु विपुल संसाधन उपलब्ध कराकर ग्रामीण अंचलों में जनसुविधाओं का विस्तार , रोजगार के अधिक अवसर एवं गरीब परिवारों के आर्थिक स्तर में सुधार लाने का उल्लेखनीय कार्य किया है।

ग्राम पंचायत योजना राजस्थान उद्देश्य

Aim

work-Jobchart

दोस्तों यदि आपको ग्राम पंचायत योजना राजस्थान से संबंधित कोई भी जानकारी समझ में नहीं आ रही है तो हमें कमेंट कर सकते हैं हम आपके सभी प्रश्नों का जवाब जरूर देंगे कृपया हमारे फेसबुक पेज को लाइक और शेयर करना ना भूले ताकि हम आपको इसमें लेटेस्ट अपडेट देते रहें|