यूपी में दाखिल खारिज बैनामा प्रक्रिया के ऑनलाइन होने की प्रतीक्षा करने वाले लोगों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार द्वारा अब दाखिल खारिज प्रक्रिया को पूरी तरह ऑनलाइन कर दिया गया है। प्रक्रिया ऑनलाइन होने की बदौलत अब प्रदेश निवासियों को इसके लिए कंही जा कर चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। दाखिल खारिज राजस्व विभाग

द्वारा जारी किया जाने वाला किसी भी सम्पत्ति के लिए सबसे अहम दस्तावेज है। अगर आपकी संपत्ति पर आपने यह नहीं कराया तो भविष्य में आपको इसके बहुत से बूरे परिणाम झेलने पड़ सकते हैं।

अगर आपके पास कोई भी संपत्ति है और चाहे उसकी रजिस्ट्री आपके नाम पर क्यों न हो, लेकिन अगर दाखिल बैनामा खारिज में वह आपके नाम पर नहीं है तो सरकार के मुताबिक वह प्रॉपर्टी उसी व्यक्ति की है जिसके नाम से दाखिल खारिज दर्ज है। आज हमारे इस लेख में आपको बताएंगे कि आखिर किस तरह आप ऑनलाइन दाखिल खारिज के लिए आवेदन कर सकते हैं। साथ ही क्या हो सकता है अगर आपने अपनी संपत्ति का नहीं कराया तो।

उत्तर प्रदेश ऑनलाइन दाखिल, ख़ारिज और बैनामा – सम्पूर्ण प्रक्रिया जानें

म्यूटेशन या दाखिल खारिज

संपत्ति में आपने म्यूटेशन का नाम तो सुना ही होगा, अगर नहीं सुना तो हम आपको बताते हैं। दरअसल म्यूटेशन और दाखिल खारिज दोनो एक ही बात है। म्यूटेशन ऐसी प्रक्रिया को कहा जाता है जिसमे सरकारी राजस्व में संपत्ति पूराने नाम से हटाकर ने मालिक के नाम पर करा दी जाती है। ऐसा भी नहीं है कि यह प्रक्रिया केवल नई संपत्ति खरीदते समय करानी होती है, अगर संपत्ति के मालिक की मृत्यु हो जाती है तो भी यह दाखिल खरिज कराना पड़ता है। इसके लिए संपत्ति के पहले मालिक का मृत्यु प्रमाण पत्र जमा कराना होता है और खुद को उत्तराधिकारी साबित करना होता है।

दाखिल खारिज बैनामा न कराने का नुकसान

उदाहरण के तौर पर अगर आप के पास कोई संपत्ति है और उसकी रजिस्ट्री आपके नाम पर है, लेकिन सरकारी राजस्व में दर्ज आकड़ों के मुताबिक वह संपत्ति किसी और व्यक्ति की है। अब सरकार द्वारा किसी योजना के तहत आपकी प्रॉपर्टी का अधिग्रहण किया गया हो, और उसके बदले में आपको एक निश्चित धन राशि देने का वादा किया हो। ऐसे में अगर संपंति के पहले मालिक ने इस धन राशि पर क्लेम कर लिया तो सरकार पैसा उसी को देगी जिसके नाम पर म्यूटेशन दर्ज है।

म्यूटेशन दर्ज करन के लिए दस्तावेज

  • जिस जमीन की रजिस्ट्री है उसके कागजात की कॉपी
  • दाखिलखारिज आवेदन कोर्ट फीस स्टांप के साथ करना होता है
  • इन्डेम्निटीबांड
  • शपथपत्र
  • प्रॉपर्टीटैक्स भुगतान की रसीद

उत्तर प्रदेश दाखिल खारिज बैनामा ऑनलाइन फॉर्म | UP Dakhil, Kharij, Benama Online Process (2020)

  • अगर आप राजस्व विभाग में संपत्ति में दर्ज नाम बदलवाना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे पहले आपको इसकी आधिकारिक साइट पर जाना होगा जिसका लिंक यह है। http://vaad.up.nic.in/
  • जैसे ही आप लिंक पर क्लिक करेंगे आपके सामने साइट का होम पेज खुल जाएगा। यंहा आपको ‘नामांतरण(दाखिल – ख़ारिज ) हेतु “उत्तर प्रदेश राजस्व संहिता – 2006” की “धारा 34” के अन्तर्गत ऑनलाइन आवेदन के लिए’ यह विक्लप दिखाई देगा आपको इस पर क्लिक करना होगा। आप उधाहरण के लिए नीचे चित्र देख सकते हैं।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा जंहा आपको लॉगइन करने और लॉगिन बनाने के कहा जाएगा। आपको इस लॉगइन बनाने के विक्लप को चुनना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलेगा जंहा एक छोटा सा फॉर्म दिखाई देगा। फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी दर्ज कर अपना अकाउंट बना लें। यंहा बनाया गया यूजर आईडी, मोबाइल नंबर और पासर्वड कंही लिख कर रख लें। इसी से आपको लॉगइन करना होगा।
  • अब आपको साइट पर जा कर लॉगइन के विक्लप को चुनना होगा।
  • लॉगइन करने के बाद आपको दाखिल खारिज फॉर्म पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने फॉर्म खुल जाएगा, फॉर्म में पूछी गई जानकारी दर्ज करें और सब्मिट कर दें।
  • इस तरह म्यूटेशन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी और राजस्व विभाग के आंकड़ो में भी आपका नाम दर्ज हो जाएगा।

यह भी पढ़ें :