निर्विक योजना | निर्यात ऋण विकास योजना – Nirvik Scheme in Hindi


आज इस पोस्ट में निर्विक योजना के बारे में आप सभी लोगो के साथ जानकारी को सांझा करेंगे। और आप लोगो को निर्विक योजना से related सभी बातों को बताएंगे। निर्विक योजना क्या है और इससे क्या लाभ प्राप्त होंगे? ऐसे सभी प्रश्नों के उत्तर इस लेख में आपको मिलने वाले हैं |

निर्विक योजना सरकार दवारा उन लोगो के लिए शुरू की गई है, जो लोग निर्यात का कार्य करते है। इस योजना को एक्सपोर्ट क्रेडिट गारंटी कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के तहत लागू किया जाएगा। इस बार के बजट में भी इस स्कीम का जिक्र किया गया है| इस योजना को के “निर्यात ऋण विकास योजना” के नाम से भी जाना जाता है निर्विक योजना से निर्यातकों को बहुत अधिक फायदा होने वाला है। इसमें निर्यातकों को आसान ऋण प्रधान किया जाएगा और मूलधन तथा ब्याज का 90% तक बीमा में कवर कर दिया जाएगा। यदि किसी निर्यातक की बकाया राशि 80 करोड़ से कम की है तो सरकार उनको प्रधानमंत्री निर्विक योजना के तहत ECGC दवारा  60% तक की ऋण गारंटी प्रदान करेगी। तथा केंद्र सरकार दवारा छोटे निर्यातकों के लिए प्रीमियम को घटाकर 0.6% कर दिया जाएगा।

निर्विक योजना

इस योजना को लेकर वित्त मंत्री पीयूष गोयल जी ने कहा है कि निर्विक निर्यात योजना की मंजूरी के लिए जल्दी ही कैबिनेट में भेजा जाएगा तथा योजना का अप्रूवल मिलते ही इसको तुरंत लागू कर दिया जाएगा।

तो चलिए अब नीर्विक योजना से कैसे लाभ होगा और क्यों यह निर्यातकों के लिए बेहतर है इसके बारे में भी जान लेते है।

निर्विक योजना के विशेषताएं :

  • निर्विक निर्यात योजना के तहत मूलधन तथा ब्याज पर 90% तक बीमा के दवारा कवर दिया जाएगा।
  • इस बीमा में post shipment credit और pre post shipment दोनो ही शामिल होंगे।
  • इस बढ़े हुए cover में यह ध्यान रखा जाएगा कि विदेशी और रुपए निर्यात ऋण के ब्याज दर को 4% और 8% के बीच रखा जाए।
  • जिन निर्यातकों के खाते 80 करोड़ से कम की सीमा के है उनके प्रीमियम की दर  0.60% प्रतिवर्ष होगी तथा 80 करोड़ रुपए से अधिक वालो को 0.72% प्रतिवर्ष होगी।

Nirvik Yojana | निर्यात ऋण विकास ( निर्विक) योजना

निर्विक योजना का उद्देश्य

आज के समय में निर्यात के क्षेत्र में व्यापारिक घाटा लगातार बढ़ता जा रहा है। अभी जो सरकार का डाटा है वह यह दर्शाता है कि पिछले साल के व्यापारिक घाटे के मुकाबले इस साल 120 करोड़ रुपयों की वृद्धि देखी गई है। जिससे कि केंद्र सरकार बहुत चिंतित है और इस को सुधारने के लिए लगातार प्रयाश कर रही है।

अभी सरकार ने निर्यात के क्षेत्र में सुधार करने के लिए निर्विक निर्यात योजना को भी बनाया है। जिसको कैबिनेट के दवारा मंजूरी मिलने के बाद लागू के दिया जाएगा। इस योजना को शुरू करने के पीछे सरकार का मुख्य उद्देश्य देश के निर्यात क्षेत्र को competitive बनाना है। ताकि देश के अन्य new companies भी इस क्षेत्र में खुद को उतरे। इस योजना से सरकार के दवारा निर्यातकों को ऋण के लिए पैसे को उपलब्ध करवाना तथा सामर्थ्य को बढ़ाना है। यह ECGC प्रतिक्रिया को निर्यात के अनुकूल बनाने में मददगार भी होगा।

निर्विक निर्यात योजना के लाभ

  • इससे निर्यात के ऋण में वृद्धि होगी जिससे कि निर्यातकों को और भी अधिक कार्य के अवसर प्राप्त होंगे।
  • इस योजना से भारतीय निर्यात क्षेत्र में एक competation भी बनेगा।
  • यह योजना ECGC के प्रक्रिया के अनुकूल होगा।
  • इससे निर्यात के क्षेत्र में समय के अनुसार और पर्याप्त कार्यों के लिए पैसे सुनिश्चित हो पाएंगे।

यह भी पढ़ें :