यूपी मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना 2020। रजिस्ट्रेशन फॉर्म


क्या है इस लेख में hide
1 क्यों बदल कर रखा गया यूपी मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना नाम

उत्तर प्रदेश के किसानों और उनके परिवार के लिए एक बहुत अच्छी खबर सामने आई है। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ किसानों के लिए एक नई योजना लेकर आए हैं। इस योजना का नाम Up Mukhya Mantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana है। इस योजना के जरिए जिन भी किसानों की मृत्यु किसी दुर्धटना में हो जाती है उन्हे सरकार मुआवज़े के रूम में 5 लाख रूपए तक की राशि देगी। इसके अलावा 60 प्रतिशत से ज्यादा दिवांग्यता पर अधिकतम 2.50 लाख रूपए की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। उत्तर प्रदेश के जो भी किसान और उसके परिवार के लोग  यूपी मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना का लाभ उठाना चाहते हैं, उन्हे कुछ शर्तों और नियमों का पालन करना होगा। अगर शर्तों और नियमों  का पालन किया जाता है तो योजना का लाभ किसान के परिवार को मिल जाएगा।  अगर आप भी मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना योजना का लाभ उठाना चाहते हैं या इससे जुड़ी शर्तें और जानकारियाँ हासिल करना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख पर अंत तक बने रहें।

क्यों बदल कर रखा गया यूपी मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना नाम

आपको बता दें कि पहले इस योजना का नाम मुख्यमंत्री किसान एंव सर्जन हित बीमा योजना था लेकिन अब इसका नाम मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना योजना था। योजना को अब सरकारी महकमें द्वारा ही चलाया जाएगा, इससे पहले यह योजना बीमा कंपनियों द्वारा चलाई जा रही थी, जिसकी वजह से बीमा कंपनी किसानों की मौत पर क्लेम देने में आनाकानी करती थी। बीमा कंपनियों की मनमानी बंद हो सके और पीड़ित परिवार को इस योजना का लाभ दिया जा सके इसलिए ही सरकार ने योजना में यह बदलाव किए हैं। योजना के माध्यम से राज्य के उन किसानों के परिवारों को लाभ पंहुचाया जाएगा जिनके मुखिया या किसान की किसी दुर्घटना में मौत हो गई हो। 

Up Mukhya Mantri Krishak Durghatna Yojana का उद्देश्य

जैसे की हम सभी जानते ही की देश में किसानों की फसल को तो प्रकृति के कहर का सामना करना पड़ता ही है, इसके अलावा कई बार किसानों को खेती के दौरान होने वाली दुर्घटनाओं में जान तक गँवानी पड़ जाती है या फिर वह अपाहिज हो जाते हैं। ऐसी दुर्घटना के बाद वह जीवित होने के बावजूद कुछ नहीं कर पाते, या अगर घटना में मौत हो जाती है तो उनके परिजनों को बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यूपी सरकार के इस कदम के बाद ऐसे ही किसानों और उनके परिवार को समाजिक सुरक्षा दी जा सके इसके लिए ही इस योजना की शुरूआत की गई है।

यह योजना भी देखें –उत्तर प्रदेश कन्या विद्या धन योजना 

यूपी कृषक दुर्घटना कल्याण योजना यह दुर्घटना हैं शामिल

 Mukhya Mantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana Registration Form And Process

  • अगर किसान आग लगने, बाढ़ आने, करंट लगने और बिजली गिरने से दुर्घटना का शिकार होता है तो वह या उसका परिवार योजा का पात्र माना जाएगा। 
  • किसान को मौत किसी जंगली जानवर के काटने या खने से हो जाती है तो भी योजना का लाभ मिलेगा।
  • अगर किसान की हत्या हो जाती है, या आतंकवादी हमला लूट, लूट डकैती, मारपीट जैसी को वारदात होती है तो भी किसान को इस योजना का लाभ मिल सकेगा।
  • समुंद्र, नदी, झील, तालाब पोखर व कुएं में डूबने से किसान की मृत्यु होती है तो भी योजना का लाभ लिया जा सकेगा।
  • वंही किसान किसी सड़क दुर्घटना या हावाई यात्रा के दौराान मौत का शिकार हो जाता है, या फिर अपाहिज हो जाता है तो भी योजना का लाभ मिलेगा।
  •  इसके अलावा अगर किसान की मौत किसी आंधी तुफान, में किसी वृक्ष के गिरने के कारण होती है तो भी योजना का लाभ दिया जाएगा।

Mukhya Mantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana के लाभ और दी जाने वाली धनराशि

  • अगर किसान की दुर्घटना में आंख, दोनो हाथ, और दोनो पैर गवा देता है तो योजना का 100 प्रतिशत लाभ दिया जाएगा। वंही अगर एक हाथ, एक पैर या एक आंख भी दुर्घटना में चली जाती है तो भी योजना के जरिए 100 प्रतिशत वित्तीय सहायता दी जाएगी। यानी करीब 5 लाख रूपए दिए जाएंगे।
  • स्थायी दिव्यांगत में 50 प्रतिशत यानी 2.50 लाख रूपए तक की आर्थिक सहायता दी जाएगी।
  • वंही अगर दुर्घटना में शरीर के कुछ हिस्सें में स्थायी विकलांगता हुई है, तो योजना के जरिए 25 प्रतिशत तक रकम दी जाएगी।
  • अगर दुर्घटना में किसान की मृत्यु हो जाती है तो किसान के परिवार को 5 लाख रूपए दिए जााएंगे।

मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना आवेदन हेतु शर्तें

  • अगर किसान किसी दुर्घटना का शिकार हुआ है तो उसे या उसके परिवार को 45 दिन के भीतर ही आवेदन करना होगा। 
  • अगर 45 दिन से अधिक समय हो जाता है तो केवल जिला कलेक्टर ही इस समय सीमा को थोड़ा बहुत बढ़ा सकता है जो 30 दिन से अधिक नहीं होगा। 
  • किसान या उसके परिवार द्वारा अगर 75 दिनों के बाद दुर्घटना को लेकर पंजीकरण कराया जाता है तो यह मान्य नहीं होगा। 
  • अगर किसान किसी और सरकारी बीमा योजना के भीतर आवेदन कर चुका है और वंहा से उसे 3 लाख रूपए मिले हैं तो यूपी सरकार द्वारा उसे या उसके परिवार को दो लाख रूपए ही दिए जाएंगे।

 Mukhya Mantri Krishak Durghatna Kalyan Yojana Registration Form And Process

अगर कोई किसान इस तरह की दुर्घटना का शिकार हुआ है तो उसे या उसके परिवार को 45 दिन के भीतर ही जिला कलेक्टर को पत्र लिखना होगा। इस पत्र में मेडिकल रिपोर्ट के साथ साथ दुर्घटना की पूरी जानकारी संक्षिप्त में दी होनी चाहिए। अगर किसान की मृत्यु हो जाती है तो मृत व्यक्ति का डेथ सर्टिफ़िकेट भी चाहिए होगा।

मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना से सम्बंधित प्रशनोत्तर

मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना किस राज्य द्वारा चलाई जा रही है?

यह योजना उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही है।

कृषक दुर्घटना कल्याण योजना का नाम क्यों बदला गया?

इससे पहले इस स्कीम का नाम मुख्यमंत्री किसान एंव सर्जन हित बीमा था, लेकिन बीमा कंपनियों की मनमानी की वजह से सरकार ने इस योजना का नाम बदला था और इसमें कुछ बदलाव किए गए थे।

योजना का लाभ क्या पूरे देश के किसानों को मिलेगा?

नहीं इस योजना का लाभ उत्तर प्रदेश के किसानों को ही दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री किसान दुर्घटना योजना में अधिकत कितनी धनराशि की मदद दी जाएगी?

योजना में किसानों को या उनके परिजनों को अधिकतम 5 लाख रूपए की आर्थिक मदद दी जाएगी।

यह भी पढ़ें>>>> उत्तर प्रदेश की यह योजना खास आपके लिए है