मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना झारखण्ड | ऑनलाइन आवेदन फॉर्म, MMKAY Farmer List/Status 2021

Mukhyamantri Krishi Aashirwad Yojana MMKAY 2021 | झारखण्ड कृषि आशीर्वाद योजना Application form, किसानों की सूची (List)

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना

झारखण्ड के मुख्यमंत्री श्री रघुबर दास जी की पहल पर हाल ही में उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू ने किसानों के लिए एक बहुत ही अच्छी योजना मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना  (Krishi Aashirwad Yojana) का शुभारंभ किया। इस योजना में उन्होंने झारखण्ड के किसानों की भलाई के लिए उनके प्रति एकड़ खरीफ फसल के लिए न्यूनतम Rs. 5000 और अधिकतम Rs.25000 की राशि प्रदान करने का निर्णय लिया है। इस लेख में आपको कृषि आशीर्वाद योजना का फॉर्म, लाभार्थियों की सूची, Application Status व् अन्य जानकारी मिलेगी |

इस योजना का लाभ किसानों को न्यूनतम 5 एकड़ के लिए रखा गया है। मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का लाभ 14 लाख किसानों को बड़ी सौगात दिलाने की कोशिश में रखा गया है। इस योजना के अंतर्गत जीपीएस से लैस किसान सारथी रथ भी निकले जायेंगे। 45 दिनों में यह सारथी रथ राज्य की सभी पंचायतों में पहुंचेगा। 

कृषि आशीर्वाद योजना का किसानों के प्रति खास उद्देश्य

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना झारखण्ड | ऑनलाइन आवेदन फॉर्म, MMKAY Farmer List/Status 2021

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का खास उद्देश्य किसानों की आय को आने वाले 4 सालों में दोगुना करने का है। इस योजना से निश्चित ही किसानों का मनोबल बढ़ेगा। इस योजना के अंतर्गत, सरकार ने किसानों के लिए शुन्य प्रतिशत पर ब्याज दरों पर फसलों का ऋण का फैसला लिया है। किसानों की वित्तीय मदद ( DBT) डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर से की जायेगी। यह पहली ऐसी योजना है जिस्मव डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर किया जायेगा।

Mukhyamantri Krishi Aashirwad Yojana Jharkhand | Online Form, List 2021

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का किसानों के लिए अद्वितीय लाभ

  • झारखण्ड राज्य में फसलों का उत्पादन ज़्यादा होगा जिससे किसानों को फायदा होगा।
  •  शहरों में पलायन कम होगा और गांव का विकास होगा।
  •  कृषि रोज़गार में वृद्धि होगी।
  • राज्य की अर्थव्यवस्था में बढ़ोतरी होगी।

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना के ज़रूरी आंकड़ें

  • कृषि आशीर्वाद योजना में किसानों को प्रति एकड़ खरीफ फसल के लिए न्यूनतम ₹5000 और अधिकतम ₹25000 की राशि देय है।
  • इस योजना में अधिकतम 5 एकड़ भूमि के लिए भत्ता प्राप्त होगा।
  • यह योजना का लाभ किसान को आगामी चार वर्षों के लिए मिलेगा 2021 – 2022 है।
  • 22 लाख 76 हजार किसान, मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का हिस्सा बनेंगे।
  • 13.60 लाख किसानों को 442 करोड़ रूपए की राशि खाते में भेजी जायेगी।
  • 15 लाख किसानों की डाटा एंट्री हो चुकी है और प्रक्रिया अभी जारी है।

कृषि आवेदन के लिये आवेदन पत्र हेतु ज़रूरी जानकारी

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का लाभ लघु और सीमांत किसानों को ही दिया जायेगा। इस योजना के अंतर्गत इन्ही किसानों के द्वारा ऑनलाइन आवेदन किये जाने योग्य होंगे। इस योजना की कोई अधिकतम सीमा नही है। झारखण्ड के वित्तीय बजट 2021 – 20 के बाद ही राज्य सरकार द्वारा आवेदन की पूरी प्रक्रिया की जानकारी उपलब्ध होगी। राज्य सरकार द्वारा जल्दी ही आवेदन आमंत्रित प्राप्त किये जायेंगे।

योजना की अधिक जानकारी के लिए यह अवश्य पढ़ें

Jharkhand कृषि आशीर्वाद योजना फॉर्म | Apply Online, Registration 2021

मई या अप्रैल महीने में ऑनलाइन आवेदन शुरू कर दिए जाएंगे। झारखण्ड मुझ्यामंत्री कृषि आशीर्वाद योजना आवेदन फार्म का ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट  http://mmkay.jharkhand.gov.in/ की शुरुवात की गई है |

आवेदन सम्बंधित अधिक जानकारी मिलते ही यहाँ अपडेट कर दी जायेगी | 

Krishi Aashirwad Yojana List/Status | लाभार्थी किसानों की सूची/आवेदन स्तिथि

  • सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ
krishi aashirwad yojana
  • पेज खुलने के बाद “सर्च” ऑप्शन पर क्लिक करिये
  • मांगी गई जानकारी भर कर अब आप देख सकते हैं की आपका नाम सूची में है के नहीं

योजना से सम्बंधित अन्य जानकारी:

सम्बंधित प्रश्नोत्तर

कृषि आशीर्वाद योजना कौन से राज्य में चल रही है?

यह योजना इस समय झारखण्ड में लागू है |

इस योजना से किसानों को अधिकतम कितना आर्थिक लाभ मिल सकता है

इस योजना के माध्यम से प्रदेश के किसान 25000 रुपए तक कमा सकते हैं |

कृषि आशीर्वाद योजना की राशि किसानों तक किस प्रकार पहुंचेगी?

इस योजना के अंतर्गत डीबीटी यानी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर प्रणाली को इस्तेमाल में लाया गया है जिसके माध्यम से राशि सीधे बैंक खातों में पहुंच जाएगी|

योजना संबंधित अधिक जानकारी कहां उपलब्ध है?

आधिकारिक पोर्टल mmkay.jharkhand.gov.in पर

यह भी अवश्य पढ़ें

Comments are closed.