इनकम टैक्स रिटर्न कैसे भरें | Income Tax Return Online in HIndi


इनकम टैक्स ऑनलाइन|इनकम टैक्स ऑनलाइन फॉर्म|Income Tax  Online Form in HIndi
इनकम टैक्स रिटर्न हर व्यक्ति को देना पड़ता है जो भी इसके दायरे में आता है इनकम टैक्स फॉर्म के जरिए हर व्यक्ति यह बताता है कि वह कितना कमाता है या नहीं के उस की आमदनी कितनी है और उसका उस आमदनी के हिसाब से कितना इनकम टैक्स देना होगा इनकम टैक्स हर व्यक्ति के लिए देना अनिवार्य है जो भी इनकम टैक्स के दायरे में आता है और जो व्यक्ति इनकम टैक्स नहीं देता है वह सजा का पात्र भी हो सकता है इनकम टैक्स देना अपनी आमदनी के हिसाब से हर व्यक्ति का अधिकार है और हर व्यक्ति को अपना इनकम टैक्स देना चाहिए

इनकम टैक्स

प्यारे दोस्तों अब आप सभी सोच रहे होंगे हम इनकम टेक्स किस प्रकार देंगे तथा इसके लिए ऑनलाइन फॉर्म किस प्रकार से भरे जाएंगे तथा कौन कौन से व्यक्ति हैं जिनको इनकम टैक्स देना पड़ता है तो दोस्तों घबराने की जरूरत नहीं है हम आपको इस आर्टिकल में पूरी जानकारी विस्तारपूर्वक देंगे ताकि आपको इनकम टैक्स भरने में कोई भी मुश्किल का सामना ना करना पड़े|

इनकम टेक्स रिटर्न किसे भरना होगा

दोस्तों आप सभी यह जानने के लिए उत्सुक होंगे कि इनकम टैक्स कौन सा व्यक्ति है जो इसे भर सकता है जिस व्यक्ति की आय लाखों में होती है उसे इनकम टैक्स भरना पड़ता है जैसे की लड़कियों के लिए या महिलाओं के लिए 3:30 लाख से ऊपर यदि आए हो तो उसे टैक्स देना होगा और पुरुषों या लड़कों की आमदनी यदि ढाई लाख से ऊपर हो तो बैठक के दायरे में आते हैं तो वह टैक्स के दायरे में आते हैं यानी कि उन्हें टैक्स चुकाना होगा और यदि नहीं देते हैं तो उन्हें जुर्माना यह सजा हो सकती है|

इनकम टैक्स देने के लाभ

इनकम टैक्स देने के बहुत ज्यादा लाभ होते हैं

  1. जैसे कि यदि आप टेक्स्ट टाइम पर देते हैं तो आप लोन इत्यादि के लिए आसानी से अप्लाई कर सकते हैं
  2. इनकम टैक्स रिटर्न फाइल के जरिए आप आसानी से अपना वीजा बनवा सकते हैं
  3. टैक्स रिटर्न भरने पर आपको टीडीएस का रिफंड भी मिल जाता है
  4. 50 लाख से 1 करोड की सालाना इनकम टैक्स पर 10% का सरचार्ज ही लगेगा।

इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए जरूरी कागजात

  1. अपने दस्तावेज तैयार रखें आपको अपना इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने के लिए फार्म 16 के साथ साथ फार्म 26एएस व बैंक स्टेटमेंट की भी जरूरत पड़ेगी।
  2. यदि आप वेतन भोगी कर्मचारी हैं तो आपके पास फार्म 16 होगा। यदि आप एक कंसलटेंट के रूप में काम कर रहे हैं या फिक्स्ड डिपाजिट से आपकी आमदनी हैं तो आपके पास फार्म 16 होगा।
  3. आपकी आमदनी पर जो टैक्स कटा है उसकी जानकारी आपको फार्म 26एस से भी मिल जाती है।
  4. आपको सेविंग बैंक खाते से कितना ब्याज मिला है इसकी जानकारी आपको बैंक पासबुक या स्टेटमेंट से मिल जाएगी।

इनकम टैक्स के लिए ऑनलाइन आवेदन

दोस्तों यदि आप इनकम टैक्स भरना चाहते हैं तो हां पर दिए  वेबसाइट पर क्लिक करें

अब आपका दूसरा कदम अपने लिए सही फार्म का चयन करना है। आप सही फार्म इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए हम यहां बता रहे हैं कि कितनी तरह के फॉर्म वेबसाइट पर उपलब्‍ध हैं।

आईटीआर-1 (सहज) : ये फॉर्म उनके लिए है जिनकी इनकम सेलरी, पेंशन या अन्य स्रोतों से है, जैसे कि बैंक से मिलने वाले ब्याज या घर किराए के रूप में है। यदि आप इस श्रेणी में आते हैं तो आप इस फार्म में अपना रिटर्न फाइल कर सकते हैं।

आईटीआर-2: यह फार्म उन लोगों के लिए मान्य है जिनकी इनकम सेलरी, एक से अधिक हाउस प्रापर्टी, कैपिटल गेन व अन्य स्रोतों जैसे लाटरी, क्रॉर्सवड पजल, घुडदौड़, गैंबलिंग इत्यादि से हुई हो या जिनके पास विदेशों में बैंक अकाउंट या संपत्ति है। जिन लोगों की आय बिजनेस या व्यवसाय से हो वह इस फार्म के जरिए रिटर्न नहीं भर सकते।

आईटीआर-2ए: यह फार्म उन लोगों के लिए मान्य है जिनकी इनकम सेलरी, एक से अधिक हाउस प्रापर्टी, दूसरे सोर्स जैसे लाटरी से आमदनी, क्रॉसवर्ड पजल, घुडदौड़, गैंबलिंग आदि से है किन्तु कैपिटल गेन से न हुई हो। जिनके पास विदेशों में बैंक अकाउंट या संपत्ति है या जिन व्यक्तियों की आय बिजनेस या व्यवसाय से हुई हो ऐसे लोग इस फार्म में अपना रिटर्न दाखिल नहीं कर सकते।

आईटीआर-3: यह फार्म उन व्यक्तियों के लिए है जो किसी पार्टनरशिप फर्म में पार्टनर हैं। ऐसे व्यक्ति जो कि पार्टनरशिप फर्म में पार्टनर होने के साथ-साथ अपना निजी व्यवसाय भी कर रहे हैं, वह इस फार्म का उपयोग नहीं कर सकते।

 आईटीआर-4: ऐसे व्यक्ति जिनकी आमदनी किसी बिजनेस या प्रोफेशन से होती है। जैसे कि डाक्टर, इंजीनियर, चार्टेड अकाउंटेंट, वकील, बीमा एजेंट, म्यूचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर या छोटे दुकानदार इस फार्म में अपना रिटर्न फाइल कर सकते हैं।

आईटीआर-4एस: ऐसे व्यवसायी या व्यापारी जो अपना व्यापार खाता ठीक से नहीं रखते वह अपना रिटर्न इस फार्म में भर सकते है। यह एक सीमा के नीचे आमदनी वाले व्यापारियों के लिए ही संभव है।

 

दोस्तों आपको इनकम टैक्स रिटर्न जानकारी किस प्रकार की लगी यदि आप इनकम टैक्स रिटर्न भरने से संबंधित कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो हमें कमेंट करते हो सकते हैं हम आपके प्रश्नों का जवाब जरुर देंगे