X

Deen Dayal Sahkarita Kisan Kalyan Yojana 2021 (UK) – Interest Free Loan Scheme to Uttarakhand Farmers

Complete Details of Uttarakhand Deen Dayal Sahkarita Kisan Kalyan Yojana दीन दयाल सहकारिता किसान कल्याण योजना 2021 – उत्तराखंड के किसानों के लिए ब्याज रहित (वृहद् ब्याजमुक्त) ऋण की योजना

At the beginning of February the Uttarakhand State Government initiated the Deendayal Upadhyaya Cooperative Farmers Welfare Program. The UK Deen Dayal Upadhyay Cooperative Farmers Welfare Scheme is an interest-free agricultural loan scheme that offers a 0 percent interest rate for loan facilities ranging from 3 to 5 lakh rupees. Loans of up to Rs 3 lakh without interest can now be used by small and marginal farmers, while farmers’ associations can take interest free loans of up to Rs 5 lakh.

Deen Dayal Sahkarita Kisan Kalyan Yojana

The Deendayal Upadhyay Welfare Scheme for Cooperative Farmers was initiated by Uttarakhand Chief Minister Trivendra Singh Rawat on 6 February 2021. Under this scheme, loans for cultivation as well as fisheries, vegetables, livestock, silent farming etc. were allocated to 25 thousand farmers. At 100 locations throughout the province, concerts were held concurrently.

Eligibility Criteria for Interest Free Loan Scheme in Uttarakhand

  • Small & Marginal Farmers are eligible for Interest Free Loan Upto Rs. 3 Lakhs
  • Farmer Associations are eligible for Interest free loan upto Rs. 5 Lakhs

This initiative would further improve the rural economy. This Deen Dayal Upadhyay Cooperative Farmers Welfare Scheme in the Uttarakhand would also help boost farmers’ financial conditions.

The state government has announced that by 2022, the Deen Dayal Upadhyay Cooperative Farmers Welfare System will fulfil the vision of the central government to double the income of farmers. Interested farmers may also set up small-scale agricultural units in rural areas to boost livelihood opportunities, using the Deendayal Upadhyaya Cooperative Farmers Welfare System.

In addition to the Deen Dayal Upadhyay Cooperative Farmers Welfare System, computerization hardware was also provided to 200 state multi-purpose farm credit cooperatives. The sum spent on computerization of cooperative societies was around 40 crores. In this, through the state government, 25 percent of the money was issued. By March 2021, it plans to computerise all cooperative societies in the state. Uttarakhand is the first state in the world to launch the Deendayal Upadhyaya Healthcare System for Cooperative Farmers. Where all of the state’s multipurpose farm credit cooperatives are computerised.

In order to improve the rural economy, the government has set up the Rural Growth and Migration Board. Uttarakhand is the 5th state in the country where, through a centrally funded programme, a DBT framework has been initiated. The Direct Benefit Transfer (DBT) method lets farmers purchase fertiliser. The support goes straight to the farmer’s bank account.

Uttarakhand Deen Dayal Sahkarita Kisan Kalyan Yojana in Hindi

फरवरी की शुरुआत में उत्तराखंड राज्य सरकार ने दीनदयाल उपाध्याय सहकारी किसान कल्याण कार्यक्रम शुरू किया। यूके

दीन दयाल उपाध्याय सहकारी किसान कल्याण योजना एक ब्याज मुक्त कृषि ऋण योजना है जो ऋण सुविधाओं के लिए 0 प्रतिशत ब्याज दर 3 से लेकर 5 लाख रुपये तक है। बिना ब्याज के 3 लाख रुपये तक के ऋण अब छोटे और सीमांत किसानों द्वारा उपयोग किए जा सकते हैं, जबकि किसान संघ 5 लाख रुपये तक के ब्याज मुक्त ऋण ले सकते हैं।

सहकारी किसानों के लिए दीनदयाल उपाध्याय कल्याण योजना की शुरुआत उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 6 फरवरी 2021 को की थी। इस योजना के तहत 25 हजार किसानों को खेती के साथ-साथ मछली पालन, सब्जी, पशुधन, मौन पालन आदि के लिए ऋण आवंटित किए गए थे। पूरे प्रांत में 100 स्थानों पर संगीत कार्यक्रम आयोजित किए गए।

वृहद् ब्याजमुक्त ऋण योजना उत्तराखंड

इस पहल से ग्रामीण अर्थव्यवस्था में और सुधार होगा। उत्तराखंड में यह दीन दयाल उपाध्याय सहकारी किसान कल्याण योजना भी किसानों की वित्तीय स्थितियों को बढ़ावा देने में मदद करेगी |

राज्य सरकार ने घोषणा की है कि 2022 तक, किसानों की आय को दोगुना करने के लिए दीन दयाल उपाध्याय सहकारी किसान कल्याण प्रणाली केंद्र सरकार के दृष्टिकोण को पूरा करेगी। इच्छुक किसान दीनदयाल उपाध्याय सहकारी किसान कल्याण प्रणाली का उपयोग करके आजीविका के अवसरों को बढ़ावा देने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में छोटे पैमाने पर कृषि इकाइयों की स्थापना कर सकते हैं।

दीन दयाल सहकारिता किसान कल्याण योजना का लाभ लेने के लिए कौन होंगे पात्र?

  • लघु व् सीमान्त किसान तीन लाख रुपये तक व्याज रहित कर्ज लेने के लिए पात्र होंगे
  • किसान एसोसिएशन पांच लाख रुपये तक व्याज रहित लोन ले सकेंगे

दीन दयाल उपाध्याय सहकारी किसान कल्याण प्रणाली के अलावा, 200 राज्य बहुउद्देश्यीय कृषि ऋण सहकारी समितियों को कम्प्यूटरीकरण हार्डवेयर भी प्रदान किया गया। सहकारी समितियों के कम्प्यूटरीकरण पर खर्च राशि लगभग 40 करोड़ थी। इसमें राज्य सरकार के माध्यम से 25 प्रतिशत धनराशि जारी की गई। मार्च 2021 तक, यह राज्य की सभी सहकारी समितियों को कम्प्यूटरीकृत करने की योजना बना रहा है। सहकारी किसानों के लिए दीनदयाल उपाध्याय हेल्थकेयर सिस्टम शुरू करने वाला उत्तराखंड दुनिया का पहला राज्य है। जहां राज्य के सभी बहुउद्देशीय कृषि ऋण सहकारी समितियों को कम्प्यूटरीकृत किया जाता है।

ग्रामीण अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए, सरकार ने ग्रामीण विकास और प्रवासन बोर्ड की स्थापना की है। उत्तराखंड देश का 5 वां राज्य है, जहां एक केंद्र पोषित कार्यक्रम के माध्यम से, एक DBT ढांचे की शुरुआत की गई है। डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (DBT) विधि किसानों को उर्वरक खरीदने की सुविधा देती है। समर्थन सीधे किसान के बैंक खाते में जाता है।

सम्बंधित लिंक्स

सम्बंधित प्रश्नोत्तर

उत्तराखंड सरकार ने व्याज मुक्त ऋण योजना की शुरुआत कब की?

योजना की आधिकारिक शुरुआत 6 फरवरी 2021 को की गई |

इस स्कीम के तहत अधिकतम कितना लोन लिया जा सकता है?

अधिकतम पांच लाख रुपये तक के ऋण का प्रावधान है |

दीन दयाल उपाध्याय सहकारी किसान कल्याण योजना से क्या लाभ होंगे?

यह कार्यक्रम ग्रामीण विकास को मजबूत करेगा। उत्तराखंड में दीन दयाल उपाध्याय सहकारी किसान कल्याण योजना किसानों को उनकी वित्तीय स्थिति में सुधार करने में सहायता करेगी।

योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन या पंजीकरण करने की क्या प्रक्रिया है?

योजना में अलग से रजिस्ट्रेशन करने की आवश्यकता नहीं है। सम्बंधित बैंक ब्रांच में जाकर आप इस स्कीम का लाभ ले पाएंगे। उसके लिए आपको अपनी पात्रता दर्शाने के लिए दस्तावेज दिखाने होंगे |

क्या लाभार्थी किसानों की कोई सूची या लिस्ट जारी होगी?

अभी तक इस बारे में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। लेकिन एक बात स्पष्ट है के अगर आप पात्रता की शर्तों पर खरा उतरते हैं तो आपको लाभ अवश्य मिलेगा |

Categories: Uttarakhand