CG गोधन न्याय योजना छत्तीसगढ़ |2 Rs./KG गोबर सरकार को बेचें | आवेदन, रजिस्ट्रेशन कैसे करें


क्या है इस लेख में hide
1 CG Godhan Nyay Yojana

देश में लोगों की भलाई के लिए तो सरकारें अक्सर काम करती रहती है, लेकिन छत्तीसगढ़ की सरकार अब गायों के लिए भी काम कर रही है ,जिसका सीधा फायदा पशु पालन करने वाले लोगो को होगा, जी हां आपने बिलकुल ठीक सुना। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने गोधन न्याय योजना का ऐलान किया है। इस योजना के जरिए सरकार किसानों एवं पशुपालकों से गाय का गोबर खरीदेगी। Godhan Nyay Yojana के जरिए ख़रीदा गए गोबर का इस्तेमाल वर्मी कंपोस्ट खाद बनाने में किया जाएगा। इस योजना का लाभ जो भी किसान या पशु पालक या अन्य लोग उठाना चाहते हैं उन्हे इस योजना में अपना आवेदन करना होगा। अगर आप भी गोधन न्याय योजना के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करना चाहते हैं या इस योजना से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं, वह हमारे इस लेख पर अंत तक बने रहें।

CG Godhan Nyay Yojana

योजना का ऐलान खुद छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भुपेश भघेल दी ने किया है। सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना के जरिेए किसानों और पशु पालन करने वाले लोगों की आय में तो वृद्धि होगी ही, साथ ही गोबर का भी दाम मिलने की वजह से कोई भी गाय को खुले में नहीं छोड़ेगा। आपको बता दे की छत्तीसगढ़ समेत कई राज्यों में लोग अक्सर पशुओं का दूध निकाल उन्हे खुला छोड़ देते हैं, जिसके गांव तथा शहरों में गोबर यूं ही पड़ा रहता है, जिससे गंदगी भी फैलती है। गोधन न्याय योजना में गाय का गोबर बेचने के लिए इस पर पूरी तरह रोक लग सकेगी। साथ ही पशुपालको को आय के रूप में भी फायदा होगा।  

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना | दो रुपये प्रति किलो गोबर खरीद स्कीम 

छत्तीसगढ़ की गोधन न्याय योजना में गोबर की खरीद की कीमत का मुल्य अब तय कर लिया गया है। सरकार राज्य के किसानों एवं पशुपालन करने वाले लोगो से सरकार 2 रूपए प्रति किलो खरीदेगी। इसके लिए सरकार योजना के लोगों के लिए एक कार्ड भी जारी किया जाएगा । वंही स्कीम के अंदर गौठान समिति या उसके द्वारा नामित समूह द्वारा घर घर जा कर गोबर संग्रहण किया जाएगा। राज्य के निवासियों से खरीदे गए गोबर से जुड़ी सभी जानकारी इन कार्ड में रोजाना दर्ज की जाएगी। इस योजना की शुरूवात राज्य में 20 जुलाई हरेली के पर्व से कर दी गई है | 

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय (Gobar Kharid) योजना 2020 का उद्देश्य

छ्त्तीसगढ़ में एक बड़ी मात्रा में किसान और अन्य लोग है जो पशु पालन क काम करते हैं, लेकिन इसमें अधिक आय ना होने की वजह से वह अपनी गायों को यंहा वंहा चरने के लिए छोड़ देते हैं, जिससे गोबर के कारण गंदगी तो फैलती ही है। साथ ही सड़को पर कई गााय के निकलने की वजह से कई बड़े हादसे भी हो जाते हैं। इन सभी समस्याओं को पूरी तरह से खत्म करने के लिए और पशुरालन को एक व्यवसायी रूप देने के लिए ही Godhan Nyay Yojana का ऐलान किया गया है। इससे यह समस्याए भी खत्म होगी ही, साथ ही गायों को भी समय पर चारा देने की जिम्मेदारी भी निभाई जाएगाी।

यह योजना भी देखें– छत्तीसगढ़ किसान कर्ज माफी लिस्ट

CG Godhan Nyay Yojana की कुछ महत्वपूर्ण बातें। 

  • योजना को दो चरण मं चलाया जाएगा। जिसमें पहले चरण में राज्य के 2240 गोठानों को जोड़ा जाएगा। वंही  कुछ ही दिनों में 2800 गठनों का निर्माण होने के बाद दूसरे चरण में भी गोबर खरीदा जाएगा।
  • योजना को भविष्य में और कारगर बनाने के लिए राज्य के 20 हजार गांवों और शहरो में भी चलाया जाएगा। 
  • योजना के माध्यम से सरकार 21 जुलाई 2020 को पहली बार गोबर खरदीने की शुरआत करेगी। 
  • इस योजना  में किसानों एवं राज्य के पशुपालको से सरकार 2 रूपए प्रतिकिलो गोबर खरीदेगी।
  • योजना के लाभार्थियों को सरकार एक कार्ड जारी करेगी, जिसमें गोबर की मात्रा कीमत और अन्य सभी जानकारिया मौजूद होंगी

गोधन न्याय योजना के लाभ

  • योजना के माध्यम से पशु पालन को एक व्यवसायी रूप मिलेगा। 
  • गायों को सही तरहा का चारा प्राप्त होगा। 
  • पशुओ के साथ होने वाले हादसे पर रोक लग पाएगी।
  • राज्य में किसानो और पशु पालन करने वालों की आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा। 
  • राज्य से गंदगी दूर होगी
  • गोबर का इस्तेमाल खाद बनाने के लिए किया जाएगा।
  • गांवों में गोबर के उपले बना कर उसे जलाने पर रोक लगेगी। 

गोधन गोबर खरीद योजना छत्तीसगढ़ में आवेदन हेतु पात्रता एंव शर्ते

  • योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदक के पास आधार कार्ड होना चाहिए। 
  • राज्य के बड़े जमींदारों को इस योजना का लाभ शायद ही दिया जाए, क्योंकि वह पहले से ही समृद्ध हैं।
  • आवेदक मूल रूप से छत्तीसगढ़ का नागरिक होना चाहिए।
  • पशुओं की संख्या की जानकारी दर्ज करनी अनिवार्य होगी।

Chhatisgarh Godhan Nyay Yojana 2020 :  Online आवेदन Registration Form

ऑनलाइन आवेदन के बारे में अभी पुष्टि नहीं की गई है |

छत्तीसगढ़ में अब तक 5,300 गोठान स्वीकृत किए जा चुके हैं जिसमें से ग्रामीण क्षेत्रों में 2,408 और शहरी क्षेत्रों में 377 गोठान बन चुके हैं. इन गोठानों के द्वारा पाशुपालकों से गोबर की खरीदारी की जाएगी. हालांकि, राज्य सरकार ने प्रदेश की सभी 11630 ग्राम पंचायतों और सभी 20 हजार गांवों में गोठान निर्माण का लक्ष्य रखा है ताकि सभी गांव से गोबर की खरीदारी हो सके.

 

गोधन न्याय योजना से सम्बंधित प्रशनोत्तर

गोधन न्याय योजना किस राज्य द्वारा चलाई जा रही है?

यह योजना छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा शुरू की गई है।

छत्तीसगढ़ गोबर खरीद स्कीम का लाभ किसे होगा?

इस योजना का लाभ राज्य में पशुपालन करने वालें लोगों को होगा।

क्या देश का कोई भी व्यक्ति गोधन न्याय योजना में आवेदन कर सकता है?

नहीं, इस योजना में केवल छत्तीसगढ़ राज्य के लोग ही आवेदन कर पाएंगे।

गोधन न्याय योजना में क्या होगा?

इस योजना में सरकार राज्य के पशुपालकों से गाय का गोबर खरीदेगी।

यह भी पढ़े>>>>>> छत्तीसगढ़ की यह इस योजना के बारे में जरूर जानें